Tuesday, April 28, 2009

शरीयत

bedariyan

आन्तरिक खतरा

कभी नमाज़ न पढने वाले, शराब के शौकीन, यहाँ तक की सुवर माँस से भी परहेज़ न करने वाले, बकौल श्री अडवानी सेकुलर और बएलन पाकिस्तानी अवाम काएदे मिल्लत मोहम्मद अली जिन्ना के सपनो का पाकिस्तान तालिबानों के हाथों में तालिबानिस्तान बनने जा रहा है. ये इस्लामी इतिहास का एक भयावह द्वार मानव समाज के लिए खुलेगा, जिसकी कल्पना भी अभी करना ठीक नहीं लगता। पाकिस्तान में सदियों पुराना वहशियाना क़ानून शरीयत लागू होगा जो उस वक़्त भी जाहराना और जाबिराना था जब अनपढ़ मुहम्मद ने इस को तथा-कथित ईश वाणी कुरआन का फरमान बता कर लागू किया था, आज तो मानव मूल्य बहुत संवेदन शील हो चुके है. पाकिस्तानी अवाम फिर पीछे की तरफ माज़ी बईद में कूच करेंगे, वैसे भी वहां ज़ेह्नी पस्मान्दगी तो थी ही अब उन पर और भी कज़ा दूनी हो जाएगी. हर गाँव, हर क़स्बे, हर ज़िले और हर शहर में लम्बी लम्बी दाढ़ी वाले छोटे छोटे मोहम्मद रसूल सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम तलवार से लेकर तोप तक लिए बैठे मोहम्मदी सियासत और रसूली जेहालत का फायदा उठा रहे होंगे.
इंसानी हमदर्दी के आलावा पाकिस्तान में मेरी कोई दिल चस्पी नहीं है. "शेख अपनी देख" हम कौन से राम राज में रह रहे हैं? पाकिस्तान जम्हूरियत से इस्लामी मुल्क बन्ने जा रहा है वोह भी तालिबानी, जिसका मतलब है हमारे पडोसी की दुरदशा. तालिबानी आत्माओं का मकसदे हयात है, कुरआन की उन ज़हरीली आयातों को जीना जो जेहाद से परिपूर्ण हैं, उनके लिए मानव जीवन की कोई कीमत नहीं, चाहे वह कोई भी हों, बूढे, बच्चे, औरत, मर्द, मुस्लिम, काफ़िर या कोई जीव, उनको अपना स्वार्थ प्यारा है कि शहीद होने के बाद सीधे हूरों और शराब की नहरों से भरी जन्नत में जाना. इस अटल विश्वास के आगे मानव संवेदना का क्या मूल्य है? सवाल उठता है कि पाकिस्तान में आई हुई इस इस्लामी पस्ती के लिए हम कहाँ तक ज़िम्मेदार हैं? हमारे भविष्य में क्या लिखा है ? जी हाँ, हम सो रहे हैं जम्हूरी चादर ओढ़ के और अपने घर के बच्चों को जम्हूरी छूट दिए हुए हैं कि बेटे जाओ तुम भी तालिबानी कुरआन की आयतें पढो, बड़े होकर जेहादी बनना.
कोई मेरे सवाल का जवाब देगा कि तालिबानी कुरआन और हमारे यहाँ मदरसों में पढाई जाने वाली कुरआन में क्या फ़र्क है? यह इब्नुल वक़्त टके पर ईमान बेचने वाले सब के सब इस्लामी आलिम हिन्दुस्तानी अवाम के सामने जेहाद के नए नए माने गढ़ रहे हैं, जेहाद को जद ओ जेहद के शब्द जाल में लपेटे हैं. कुरआन एक बार नहीं बार बार कहता है, अल्लाह के नाम पर क़त्ताल करो. बच गए तो माल ओ मता पाओगे, शहीद हो गए तो हमेशा के लिए जन्नत की ज़िन्दगी होगी जहाँ शराब, जवान हूरें, गिल्मान और फलों से लदी हुई डालियाँ होंगी, हीरे जवाहरात के महल होंगे. दर अस्ल जेहाद का मकसद है दर पर्दा इसलाम का विस्तार, (पहले था अरब को मज़बूत करना और अरबियों खास कर कुरैश की आर्थिक मदद ) इसके केंद्र को मज़बूत करना, इसके मानने वालों को जेहालत के अँधेरे में रखना. अब ऐसा नज़रिया रखने वाली इतनी बड़ी आबादी इस्लामी असर में रह कर हमारे साथ साथ रहती है तो यह एक चिंता का विषय ज़रूर है.
क़ुरआन एक खतरनाक अंध विश्वास है तो इस पर अंकुश लगे, इस बात से विरोधी तालियाँ न बजाएँ, इस पर अंकुश लगाने से पहले उनको अपने गरेबान में मुँह डाल कर झाँकना पड़ेगा। भारत में बहु संख्यक को पहले समझदार होना पड़ेगा. भारत के अल्प संख्यक को अगर अंध विश्ववास की पुडिया पिला रहा है तो भारत के बहु संख्यक को हिंदुत्व महा अंध विश्वास की गोली खिला रहा. दोनों एक दुसरे के पूरक और सहायक हैं. धार्मिक और मज़हबी अंध विश्वास ही हमारे देश का दुरभाग्य है.

'मोमिन'

4 comments:

  1. अपने गरेबान में मुँह डाल कर झाँकना पड़ेगा।

    मुआफ करना गिरबान में झाँकते है तभी यहाँ लोकतंत्र है, सबको समान अधिकार है. हिन्दुओं के कई सुधार आन्दोलन हुए है. आप अपनी बात करें, दुसरों को गरियाने से क्या होगा?

    भाषा में अरबी शब्द कम होंगे तो ज्यादा लोग समझ पाएंगे.

    आपका प्रयास अच्छा है, शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  2. मोमिन भाई, तालियाँ बजानें जैसी कोई बात नहीं है। सच तो यह है कि हम यह जानते और मानते है कि ज्यादातर मुस्लिम भी कल तक हमारा ही खून थे। हालातों और खा़स कर राजनीतिक चालबाजी नें न केवल आपस की दूरी बढ़ाई है बल्कि मज़हब का भी राजनीतिक इस्तेमाल कर हम बिरादरों को जहाँ पहुँचा दिया है वह दोंनो के लिए समान रूप से चिन्ताजनक है।

    जहाँ तक गिरहबाँ में झाँकनें की बात है समय समय पर यह काम होता रहा है और आगे भी होता रहेगा। आगे कभी आप सिलसिलेवार इस पर बात करेंगे तो ठीक रहेगा। अभी तो जिधर आपकी तवज्जोह है वही तसकिरा ज्यादा ज़रूरी है। यह जानते हुए भी कि शायद ही किसी पर इसका माकू़ल असर हो।

    ReplyDelete
  3. मोमिन भाई, आप कहना क्या चाहते हैं मैं समझ नहीं पाया मैंने आपकी सारी पोस्ट पढ़ी, हर पोस्ट में आपने अल्लाह, रसूल, और कुरान को भला बुरा कहा है आपको क्या लग्ता है कि आप हमारे धरम को गाली देन्गे और हम लोग चुप्चाप सुन लेन्गे, अगर आपको इस बिरादरी को बदल्ना है तो पहले आप अपने आप को और अपनी भाषा को बदलिए क्यूंकि यहाँ पर गाली के बदले गाली ही मिलती है वो दौर गया जब बापू ने कहा था की कोई एक गाल पर थप्पड़ मारे तो दूसरा गाल आगे कर दो....यहाँ अगर किसी के एक थप्पड़ पड़ेगा तो वो जवाब में पांच मारेगा और फिर पूछेगा की क्योँ मारा था....और रही बात कुरान और हदीस की तो आप पहले अपना लिखने और बोलने का लहजा बदल ले फिर उस पर बहस हम बाद में करेंगे....और बेह्तर यही होगा की आप अपने अस्ली नाम का इस्तेमाल करें, क्यौन्कि यह मस्ला कुछ सन्गीन है इसलिये दो लोग आमने सामने आकर बात करे तो बेह्तर होगा मुझे पता तो लगे कि मै किस शख्स से बात कर रहा हू....

    ReplyDelete
  4. आपके इस वाक्‍य ''स्वयम्भू अंतिम अवतार (जिसके वर्तमान हिंदी कार्य वाहक आप बने हुए हैं)।'' के बारे में मेरा कहना है कि मुहम्‍मद सल्‍ल. स्‍वयं अंतिम अवतार नहीं बने अल्‍लाह ने कहा और बनाया,, अब तो कई हिन्‍दू भाईयों ने ऐतिहासि‍क शोध करके हिन्‍दू, जैन, बौध, ईसाई और यहूदियों का भी उन्‍हीं का अंतिम अवतार साबित कर दिया है, बहुत जल्‍द इसपर मेरा ब्‍लाग अंतिम अवतार पर देखोगे, फिलहाल मेरे ब्‍लाग islaminhindi.blogspto.com से पढिये श्रीवास्‍तव जी की पुस्‍तक 'हजरत मुहम्‍मद और भारतीय धर्मग्रंथ''
    आपके इस वाक्‍य ''ए आर रहमान का इस्लामी दुन्या में बड़ा शोर है,'' के बारे में मेरा कहना है कि आपके पास, आप जैसे लोगों में उनका शौर होगा, जो मेरे चारों तरफ हैं उनमें अक्‍सर नहीं जानते यकीन ना हो तो किसी किन्‍हीं 10 मुसलमानों से पूछ लो लेकिन वह मुसलमान जो दूर से ही पता लग जाता है कि यह मुसलमान है,दुनिया भी जानती है कौन हैं मुसलमान बस अन्‍जान बनी हुई हैं, मुसलमान वह जिसे देखकर पूछना ना पडे कि तुम मुसलमान हो तेरे और मेरे जैसे नहीं, ऐसे लोगों से पूछना फिर बताना कितनों को मालूम है कि कौन है ए आर रहमान, इसकी वजह है उसने इस्‍लाम कबूल किया है अपनाया नहीं, इस्‍लाम में संगीत, नाच गाने, बेहयाई से बचने को कहा गया है, जो इन पर ना चल सका, जिनके आपने नाम गिनाये हैं उनके लिये मेरा कहना है क‍ि वह नाम के मुसलमान हैं मेरे और तुम्‍हारे जैसे,
    आगे से कुरआन पर जो लिखो, उसका नेट पर मौजूद कुरआन के हिन्‍दी अनूवाद से लिखा करो ताकि दूध का दूध पानी पानी हो जाये,
    www.quranhindi.com (जमात इस्‍लामी हिन्‍द की पूरी वेब की pdf book मेरे ब्‍लाग से डाउनलोड कर लो)
    www.aquran.com (शिया भाई की)
    www.altafseer.com (अठारह भाषाओं में अनुवाद उपलब्‍ध, इसके हिन्‍दी अनुवाद को मैंने यूनिकोड कर लिया है जो वेब मित्रों को भेज कर मशवरा कर रहा हॅं कि कैसे इसे नेट पर डाला जाये)
    www.al-shaia.org (ईरान की वेब यूनिकोड में परन्‍तु अभी अधूरा, 70 से आगे की कोई सूरत यहां देख लिया करो)
    मुझे किताबी कीडा बताते हो, अरे मैं तो गुनहगार हूं , मैं भी नाम का मुसलमान हूं बस आप जैसों की इस्‍लाम पर बकवास ने मुझे मजबूर किया कि मैं लिखूं, दूध का दुध और पानी का पानी कर दूंगा, इन्‍शाअल्‍लाह
    अभी भी वक्‍त है पढ लो 'आपकी अमानत आपकी सेवा में' फिर ना कहना हमें कोई रास्‍ता दिखाने वाला नहीं मिला था, जिन को तुम ढपली कहते हो उन अल्‍लाह के चैलंजो पर दौबारा गौर करो, जो विस्‍तारपूर्वक मेरे ब्‍लाग पर हैं
    1- अल्‍लाह का चैलेंज पूरी मानव जाति को (क़ुरआन में 114 नमूने हैं उनमें से किसी एक जैसा अध्‍याय/सूरत बनादो)
    http://islaminhindi.blogspot.com/2009/02/1-7.html
    2- अल्लाह का चैलेंज है कि कुरआन में कोई रद्दोबदल नहीं कर सकता।
    http://islaminhindi.blogspot.com/2009/02/3-7.html
    3- अल्लाह का चैलेंज वैज्ञानिकों को सृष्टि रचना बारे
    http://islaminhindi.blogspot.com/2009/02/4-7.html
    4- अल्‍लाह का चैलेंजः कुरआन में विरोधाभास नहीं
    http://islaminhindi.blogspot.com/2009/02/blog-post.html
    2009
    5- अल्‍लाह का चैलेंजः आसमानी पुस्‍तक केवल चार
    http://islaminhindi.blogspot.com/2009/02/5-7.html
    2009
    6- खुदाई चैलेंज: यहूदियों (इसराईलियों) को कभी शांति नहीं मिलेगी’’
    http://islaminhindi.blogspot.com/2009/02/2-7.htm

    ReplyDelete